17 की उम्र में क्रिकेट छोड़ने जा रहे थे एडेन मार्कराम, फिर ऐसे बने सबसे सफल कप्तान


Aiden Markram Story: एडेन मार्कराम की कप्तानी में सनराइजर्स ईस्टर्न केप की टीम ने इतिहास रचते हुए लगातार दूसरी बार दक्षिण अफ्रीका टी20 क्रिकेट लीग का खिताब अपने नाम किया. फाइनल में सनराइजर्स की टीम ने डरबन सुपर जायंट्स को एकतरफा मुकाबले में 89 रनों से मात दी. मार्कराम की कप्तानी में इस पूरे सीजन सनराइजर्स की टीम सबसे ज्यादा हावी नजर आई. लेकिन क्या आपको पता है एक समय ऐसा भी था जब सिर्फ 17 साल की उम्र में मार्कराम ने क्रिकेट छोड़ने का मन बना लिया था. हालांकि मेंटोंर और दोस्तों के सलाह पर वह फिर से मैदान पर वापस आए और आज अफ्रीका के सबसे सफल कप्तान बन गए हैं.

17 की उम्र में संन्यास लेने जा रहे थे मार्कराम
2012 यह वही साल था जब सिर्फ 17 साल की उम्र में मार्कराम क्रिकेट छोड़ना चाहते थे. दरअसल, इसका कारण उस समय उनका नॉर्दन गोटेंग टीम में नहीं चुना जाना था. अपना चयन न होने से निराश मार्कराम यह खेल छोड़ना चाहते थे. हालांकि मेंटोंर और दोस्तों ने मार्कराम को इस मुश्किल समय में पूरा साथ दिया और उन्हें मैदान पर फिर से वापस लेकर आए.

2014 में दक्षिण अफ्रीका को बनाया वर्ल्ड चैंपियन
एडेन मार्कराम जब दोबारा मैदान पर उतरे उसके बाद मानों उनकी किस्मत के दरवाजे खुल गए. वह लगातार शानदार प्रदर्शन कर रहे थे. उनके इसी प्रदर्शन को देखकर उन्हें 2014 में अंडर-19 दक्षिण अफ्रीकी टीम का कप्तान बनाया गया. मार्कराम की लीडरशिप स्कील शुरुआत से अच्छी थी. उन्होंने 2014 अंडर-19 वर्ल्ड कप में यह साबित करके भी दिखाया और अफ्रीकी टीम वर्ल्ड कप विनर बनाया.

लगातार 2 बार जीता SAT20 का खिताब
एडेन मार्कराम की कप्तानी का दबदबा दक्षिण अफ्रीका टी20 क्रिकेट लीग के पहले दो सीजन में भी नजर आया. एडेन मार्कराम की कप्तानी में सनराइजर्स ईस्टर्न केप की टीम ने लगातार दो सीजन खिताब पर अपना कब्जा जमाया. मार्करम बतौर कप्तान अब 1 बार अंडर-19 वर्ल्ड कप और 2 बार एसएटी20 लीग का खिताब अपने नाम कर चुके हैं.   

यह भी पढ़ें: SAT20: चैंपियन सनराइजर्स पर हुई पैसों का बारिश, हारकर भी मालमाल हुई सुपर जायंट्स, जानिए किसे मिली कितनी प्राइज मनी



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.