गोल्डमैन सैक्स – मॉर्गन स्टैनली का बढ़ा भारत पर भरोसा, चीन की जगह भारतीय स्टॉक्स मेंबढ़ा रहे निवेश


Indian Stock Market Update: भारतीय स्टॉक मार्केट नई ऊंचाईयों को छू रहा है और आने वाले दिनों में भारतीय स्टॉक मार्केट में और ज्यादा निवेश आने की संभावना है. ग्लोबल मार्केट्स में बड़ा बदलाव देखने को मिल रहा है. विदेशी निवेशक चीनी अर्थव्यवस्था पर मंडरा रहे संकट के मद्देनजर वहां से निवेश को निकाल कर भारत में निवेश बढ़ा रहे हैं. गोल्डमैन सैक्स और मॉर्गन स्टैनली ने अगले एक दशक के लिए भारत को दुनिया के सबसे प्राइम इंवेस्टमेंट डेस्टीनेशन करार दिया है. 

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक 62 बिलियन डॉलर के हेज फंड मार्शल वेस (Marshall Wace) ने अपने फ्लैगशिप फंड में अमेरिका के बाद भारत को लंबी अवधि के निवेश के लिए चुना है. ज्यूरिख बेस्ड वोन्टोबेल होल्डिंग एजी (Vontobel Holding AG) ने अपने इमर्जिंग-मार्केट होल्डिंग में भारत को पहले स्थान पर रखा है. जैनस हेंडरसन ग्रुप पीएलसी भारत में फंड हाउस के अधिग्रहण की संभावना तलाश रहा है. चीन के मुकाबले जापान के रिटेल निवेशक भारत को निवेश के लिए ज्यादा तरजीह दे रहे हैं.   

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में भारत ने इंफ्रास्ट्रक्चर की मजबूती पर जोरदार काम किया है जिसकी बदौलत भारत दुनिया में सबसे तेज गति से आर्थिक विकास करने वाली अर्थव्यवस्था बन चुका है. मोदी सरकार एक तरफ ग्लोबल कैपिटल और सप्लाई लाइंस को चीन से भारत में आकर्षित करने में जुटी है. पश्चिमी देशों के साथ चीन के बढ़ते तनाव का भी भारत को जबरदस्त फायदा मिल रहा है. जापान के पारम्परिक रिटेल निवेशक जो अब तक अमेरिका में निवेश को तरजीह देते रहे हैं वे भी भारत की ओर आकर्षित हो रहे हैं. जापान की पांच भारत फोकस्ड म्यूचुअल फंड्स इंफ्लोज के लिहाज से टॉप 20 फंड्स में शामिल है. नोमुरा इंडियन स्टॉक फंड चार वर्ष के हाई पर है. 

भारतीय अर्थव्यवस्था का विकास और उसके स्टॉक मार्केट का वैल्यू का ग्रोथ आपस में जुड़ा है. अगर आर्थिक विकास 7 फीसदी के दर से ग्रोथ दिखाती है तो बाजार का मार्केट वैल्यू भी इसी रफ्तार से ग्रोथ दिखाता है. पिछले दो दशकों में भारत का जीडीपी और स्टॉक मार्केट का मार्केट कैपिटलाइजेशन करीब करीब बराबर 500 बिलियन डॉलर से बढ़कर 3.5 ट्रिलियन डॉलर तक जा पहुंचा है. 

पिछले एक साल से भी कम समय में भारत के स्टॉक मार्केट ने निवेशकों को जोरदार रिटर्न दिया है. 20 मार्च 2023 में सेंसेक्स 57000 तक नीचे जा फिसला था तो निफ्टी 16800 के लेवल पर आ गया था. इस लेवल से सेंसेक्स में 15000 या 26.31 फीसदी और निफ्टी में 5000 अंकों या करीब 30 फीसदी की तेजी आ चुकी है. भारतीय शेयर मार्केट का मार्केट वैल्यू जहां  255 लाख करोड़ के करीब था वो बढ़कर अब 387 लाख करोड़ रुपये पर आ चुका है. यानि 11 महीने में भारतीय बाजार में निवेशकों की संपत्ति में 132 लाख करोड़ रुपये की बढ़ोतरी आई है.  

ये भी पढ़ें 

Real Estate Sector: बेंगलुरु, मुंबई और Delhi NCR टॉप 10 रेसिडेंशियल मार्केट्स में शामिल, सबसे ज्यादा इन शहरों में बढ़ी कीमत!



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.